दोस्ती क्या है Dosti Kya Hai

What is Friendship in Hindi

क्या एक लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते हैं ?

किसी लड़की की दोस्ती अगर सिर्फ लड़कियों से ही हो तो यह सामान्य माना जाता है. किसी लड़के की दोस्ती सिर्फ लड़कों से हो तो किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन यही दोस्ती एक लड़की और लड़के के बीच हो तो यह असामान्य लगने लगता है और इस दोस्ती पर लोगों के तर्क भी आने लगते हैं कि एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नही हो सकते. अब एक लड़का और लड़की दोस्त हो सकते हैं या नहीं, ये समझने के लिए पहले यह समझना होगा कि ये दोस्ती क्या है…

दोस्ती क्या है ?

दोस्ती दो लोगों के बीच का एक भावनात्मक सम्बन्ध है जहाँ दोनों को एक-दूसरे की फिक्र होती है. दोस्ती की परिभाषा में सिर्फ इतना ही कहना इस पवित्र रिश्ते के साथ न्याय नहीं होगा. दिल का दिल से रिश्ते का नाम है दोस्ती… किस्मत का एक अमूल्य वरदान है दोस्ती… कभी ना फीकी पड़ने वाली, ज़िन्दगी की एक मुस्कान है दोस्ती…  दोस्ती एक तड़प है… दोस्ती के सम्बन्ध में मदमस्त एक दोस्त अपने दोस्त के साथ अपना सबकुछ बाँटते रहने को व्याकुल रहता है. दोस्त ही वह सबसे पहला व्यक्ति होता है जिसके साथ हम अपनी खुशियाँ… अपने सारे ग़म दिल खोलकर बाँटते हैं.

Read : प्यार क्या होता है ? Pyar Kaise Kare ? What is Love ?

सबसे पाक और पवित्र… बनावटीपन से बिलकुल अलग… किसी जाति और धर्म जिसे कभी छू नहीं पाई… सामाजिक बंदिशों से परे… अमीरी या गरीबी से जिसका कोई सरोकार नहीं… इसे ही तो फ्रेंडशिप कहते हैं. दोस्ती क्या है, इसे जानने और समझने के लिए कोई लेख या किताब ही काफी नहीं है. फ्रेंडशिप जैसे अनमोल रिश्ते को समझने के लिए इसमें डूबना होगा… इसके आनंद का अनुभव लेने के लिए इस प्रेम के सागर में गोते लगाने ही होंगे.

Read : फ्रेंडशिप टूटने के ये हैं मुख्य वजह जानकर हैरान हो जायेंगें

दोस्ती और प्यार में क्या अंतर है ?

दोस्ती क्या है

इस सवाल का जवाब एक दूसरे सवाल में ही है. क्या दो पुरुषों में प्यार हो सकता है ? इसका जवाब हम में से कुछ लोग यह कहकर दे सकते हैं कि दो पुरुषों के बीच प्यार नहीं हो सकता है, उनमे सिर्फ दोस्ती हो सकती है और कुछ लोगों का जवाब यह भी हो सकता है कि दो पुरुषों में प्यार तभी हो सकता है जब वे दोनों समलैंगिक हों. इस सवाल का जवाब देते हुए कुछ लोग यह भी कह सकते हैं कि दो पुरुषों के बीच प्यार हो सकता है…. एक पिता और पुत्र का प्यार या दो भाइयों का प्यार. जब पिता-पुत्र में प्यार हो सकते है, तो उनमे मित्रता भी तो होती है ! भावनाओं का बंधन प्यार है तो इन्हीं भावनाओं में मित्रता भी छुपी होती है.

Read : प्यार की ऐसी शुरुआत… कभी न सुनी Love Story

दोस्ती और प्यार एहसास के रिश्ते हैं

Dosti Kya Hai

दोस्ती और प्यार में फर्क नहीं हो सकता है, क्योंकि दोनों ही भावनाओं की बुलंदियों पर बने एहसास के रिश्ते होते हैं. ऐसा अक्सर देखने और सुनने में आता है कि एक लड़का और एक लड़की में बहुत अच्छी मित्रता है, पर जब उनसे यह पूछा जाता है कि क्या दोनों में प्यार भी है तो वे साफ़ शब्दों में यह कहते हुए इंकार कर जातें हैं कि उनके बीच सिर्फ फ्रेंडशिप है, इससे अधिक कुछ भी नहीं. वे दोस्ती और प्यार को अलग-अलग नज़रिये से देखते हैं.

Read : True love is hard to find, परमात्मा के जैसा है सच्चा प्यार

दोस्ती और प्यार के दायरे

What is Friendship in Hindi

अगर दोस्ती और प्यार एक ही होते हैं तो इनके दायरे क्या हैं ? दोस्ती और प्यार के दायरे की बात की जाए तो उन में वही दायरा होता है जो कृष्णा और सुदामा में हुआ करता था, उनमे वही दायरा होना चाहिए जो मीरा और कृष्णा के थे. सम्वेदनाओं में दायरे नहीं हुआ करते… दायरा भौगोलिक और भौतिक होता है… दायरा एक दीवार है… इस दीवार को हम अपनी संस्कृति और नैतिकता के आधार पर निश्चित करते हैं, लेकिन जब बात एहसास की हो तो यह अनंत और अनिश्चित है… किसी को नहीं पता होता कि ये कहाँ तक जाएगा… और कब तक जाएगा…

Read : Love Shayari in Hindi & English from Bollywood

दोस्ती और प्यार में सेक्स की भावनाएँ

What is Friendship

सच कहूँ तो दोस्ती और प्यार में सेक्स की भावनाएँ होनी चाहिए या नहीं होनी चाहिए यह पूरी तरह से निर्भर करता है शारीरिक जरूरतों पर. सेक्स सिर्फ और सिर्फ एक मानसिक और शारीरिक ज़रूरत है. भावनाओं और प्यार से सेक्स का कोई सम्बन्ध नहीं हो सकता. सेक्स का सम्बन्ध भावनाओं से होता तो वेश्याओं का बहिष्कार नहीं किया जाता. सामाजिक रूप से वेश्याएँ हमारा आदर्श होतीं क्योंकि अनगिनत पुरुषों के स्नेह और भावनाओं में लहराते हुए हमारे दिलों दिमाग पर उनका वर्चस्व बना रहता.

Read : Sexual Desires महिलाओं में भी होती है सेक्स की इच्छा?

क्या एक लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते है ?

क्या एक लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते है? यह एक ऐसा सवाल है जो लगभग हर किसी के मन में उठता रहता है. सामाजिक नैतिकता के आधार पर इस सवाल का उठना भी उचित है कि दो अलग-अलग लिंग के लोगों के बीच क्या सिर्फ मित्रता हो सकती है ? क्या एक नर और मादा के बीच सिर्फ मित्रता का रिश्ता ही रह सकता है ? लड़का-लड़की या महिला-पुरुष की मित्रता की बात चलते ही ऐसे-ऐसे ना जाने कितने ही सवाल मन में आने लगते हैं.

दोस्ती क्या है Dosti Kya Hai

Read : टीनएज गर्ल को लव के बारे में पता होना चाहिए ये बातें

इस सवाल के जवाब में अगर यह पूछा जाए कि क्या एक इंसान और जानवर में मित्रता हो सकती है, तो इसका जवाब लगभग सभी लोग ‘हाँ’ में ही देंगे, क्योंकि इंसान और जानवर में मित्रता होती है… इंसान और जानवर के बीच भावनाओं के सम्बन्ध होते हैं… उनके सम्बन्ध में भी एक आपसी सूझ बूझ होती है… जब एक इंसान और एक जानवर दोस्त बन सकते हैं तो भला दो इंसानों के बीच मित्रता क्यों नहीं हो सकती ? जब एक इंसान और एक जानवर में भावनाओं का सम्बन्ध हो सकता है तो भला दो इंसानों में संवेदनाओं का रिश्ता क्यों नहीं जुड़ सकता ? लड़का लड़की भी इंसान हैं इसलिए एक लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते हैं.

Read : Friends Online Search करते वक्त इन बातों का ध्यान रखें

क्या लिंग के आधार पर दोस्ती होती है ?

दोस्ती सिर्फ दोस्ती होती है, दोस्ती कभी लड़का लड़की देखकर नहीं होती. दोस्ती अगर लिंग के आधार पर होती तो विश्वास कीजिये वह दोस्ती नहीं कुछ और ही है. दो अबोध बच्चों के बीच मित्रता होती है. उन्हें यह नहीं पता होता है की लड़का-लड़की क्या होते है. उन्हें सिर्फ यह पता होता है की जिनके साथ वे खेलते हैं… जिनके साथ वे अपना समय गुज़ारते हैं वह सिर्फ इंसान है. लिंग के आधार पर मित्रता में संदेह तब होने लगता है जब हम इंसान को एक इंसान के रूप में नहीं बल्कि उसे एक महिला या पुरुष के रूप में देखने लगते हैं.

दोस्ती KYA HOTI HAI

Read : Gender equality लैंगिक समानता जितनी अधिक उतना ही सेक्स

प्रकृति ने मानव के दो अलग-अलग रूप दिए हैं – स्त्री और पुरुष, और ये इसलिए है ताकि इस सृष्टि को चलाया जा सके. वैज्ञानिक नज़रिये से देखा जाए तो महिला और पुरुष के शरीर की बनावट एक जैसी ही है, सिर्फ दो-तीन अंगों को अपवाद में रख दें, तो हर इंसान की बनावट एक जैसी ही है. उनमे भावनाओं और एहसासों की लहरें एक जैसी ही होती है. जब भावनाएं एक जैसी ही होती हैं… ऐसे में भला मित्रता  जैसा सम्बन्ध दो इंसानों के बीच है तो यह एक स्वाभाविक आकर्षण ही है.

Read : How to Compliment a Girl to Impress Her

लड़का और लड़की के दोस्ती पर सामाजिक विचार ?

दोस्ती के मायने क्या है

समय तेज़ रफ़्तार से बदलता जा रहा है और बदलते वक्त के साथ इंसान के हालात और सोच में भी बदलाव होते रहते हैं. अब लोगों कि सोच ऐसी नहीं रही जब ‘लड़का और लड़की दोस्त नहीं हो सकते’ जैसी बातों पर ध्यान दिया जाता था. बदलती दौड़ में लड़का और लड़की भी अपने रिश्तों को अधिक सहजता से लेने लगे हैं. आजकल छोटे-छोटे गाँव शहर से भी लोग अपने बच्चों को दूसरे शहर पढ़ाई और नौकरी के लिए घर से बाहर भेजने लगे हैं. वहीँ दूसरी तरफ आज भी बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने ये मानसिकता पाल रखी है कि ‘लड़का और लड़की दोस्त नहीं हो सकते’. ऐसे लोगों को समझना ही होगा कि दोस्ती क्या है… दोस्ती के मायने क्या है… ऐसे लोगों के मन में यह सोच हमेशा से रही है कि एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नही हो सकते.

Read : लड़की क्या चाहती है What does a Girl Want

लड़का और लड़की की दोस्ती पर नकारात्मक तर्क

लड़का और लड़की दोस्त नहीं हो सकते

एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नही हो सकते मानने वाले लोगों के अजीबोग़रीब तर्क होते हैं. लोगों का तर्क होता है कि एक लड़का और लड़की विपरीत सेक्स के होते हैं तो ऐसे में एक-दूसरे के प्रति मानसिक आकर्षण के साथ-साथ शारीरिक आकर्षण भी हो सकता है. इस वजह से उनके बीच दोस्ती के अलावा शारीरिक सम्बन्ध होने की संभावनाएं बढ़ जाती है. कुछ लोगों का यह भी तर्क होता है कि आग और पेट्रोल साथ-साथ नहीं रखे जा सकते. अब उनकी इस बात में मैं आज तक ये नहीं समझ पाया कि लड़का और लड़की में आग कौन है और पेट्रोल कौन. लड़का और लड़की दोस्त नहीं हो सकते मानने वाले लोगों को कुछ ऐसे ही जानी अनजानी आशंकाएं डराती रहती हैं.

Read : गर्लफ्रेंड बनाने के तरीके How to Make a Girlfriend

लड़का और लड़की की दोस्ती में लाइफस्टाइल का असर

लड़का और लड़की की दोस्ती

लड़का और लड़की की दोस्ती में बदलते लाइफस्टाइल का एक बड़ा योगदान है. वो वक्त और था जब घर की महिलाएँ, घर-आँगन तक ही सीमित थी. अब समय बिलकुल बदल चुका है. क्योंकि आज की महिलाएं घर से निकल चुकी हैं. आज की महिलाओं की सशक्त मौजूदगी पुरुषों के साथ हर क्षेत्र में है. हर कार्य क्षेत्र में पुरुषों और महिलाओं की मौजूदगी एक सामान है, इसलिए वहां दोस्ती की संभावनाएं अधिक होती है. लड़का और लड़की साथ पढ़ते हैं और उनमें दोस्ती होती है. दफ्तरों में साथ काम करते हैं और एक दूसरे से अपने दिल की बातें करते हैं… और उनमें दोस्ती होती है. इसलिए यह कह सकते हैं कि एक लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते हैं.

 

To know more on Friendship click here for Quora.

Advertisements

Leave a Reply