भावना क्या है Emotions Meaning in Hindi.

भावना क्या है Emotions Meaning in Hindi

हमारे ये सभी रिश्ते-नाते भावनाओं के डोर से ही बंधे हैं. मेरा लिखना भी एक भावना है, आपका पढ़ना भी एक भावना है. हम जिनसे भी जुड़े हैं भावनाओं के माध्यम से ही जुड़े हैं. कहते हैं भावहीन व्यक्ति कठोर दिल वाला होता है, लेकिन मेरा मानना है कि दिल कभी कठोर हो ही नहीं सकता. जब किसी का दिल कठोर नहीं है तो हम ये कह सकते हैं कि भावनाएं सभी में होती हैं. ऐसा कोई भी इंसान नहीं है जिसके शरीर में दिल न हो. जिसके शरीर में दिल है उसमे भावनाएं भी हैं, ये बात और है कि कोई अपनी भावनाओं को व्यक्त नहीं कर पाता या व्यक्त नहीं करना चाहता.

इंसान का भावुक होना बहुत अच्छी बात है. सच कहिये तो भावुकता ही इंसानियत है. भावुकता ही किसी व्यक्ति के नरम दिल होने का संकेत है. भावुकता में ही प्रेम है और प्रेम ही ब्रम्हांड है. आइये इस विषय को विस्तार में टटोलते हैं.

Read : पुरुषों को इन 10 बातों में हस्तक्षेप बिलकुल भी पसंद नहीं

भावना क्या है Meaning of Emotions in Hindi

भावना-है-emotions-meaning-in-hindi

सबसे पहले यह समझना ज़रूरी है कि भावना होती क्या है ? सरल बोलचाल की भाषा में कहें तो हमारे विचार ही भावना है. हमारा हसना, रोना, गुस्सा करना, प्यार करना, खेलना-कूदना, पढ़ना-लिखना या फिर हमारा खाना-पीना सभी भावनाएं है. हम जो सोचते हैं, जो बोलते हैं, खुश होते हैं या नाराज़ होते हैं ये सभी हमारे भावों से ही जुड़े होते हैं.

Read : ज़िंदगी क्या है ? बनाएं इन 4 फॉर्मुलों से 1 हैप्पीवाला लाइफ…

भावनाएं कितने प्रकार की होती हैं ?

भावनाएं--है-emotions-meaning-in-hindi

भावनाएं दो तरह की होती है – प्रकट और अप्रकट. जब हम अपनी भावों को किसी के सामने व्यक्त करते है यह प्रकट भाव है. जब हम अपने विचार को किसी के सामने व्यक्त नहीं करते है तो यह अप्रकट भाव है.

प्रकट भावनाओं के लक्षण

भावनाएं-क्या-emotions-meaning-in-hindi

हम शायद खुद ही ऐसे हों या हममें से कोई न कोई ऐसा ज़रूर होता है जिसे बात-बात पर रूठने की आदत होती है. कुछ तो ऐसे भी होते हैं जिन्हे कोई बात पसंद नहीं आती तो चीखने-चिल्लाने लगते हैं. कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हे छोटी-छोटी बात भी काफी उत्साहित कर देता है या काफी दुखी कर देता है. ज़रा-ज़रा सी बात पर चहकने लगते हैं या काफी मायूस हों जाते हैं. ऐसे लोगों को हम साफ़ दिल का इंसान समझते हैं. जैसे – फलाना आदमी पूरी तरह से एक खुली किताब है, वह छुपाता कुछ भी नहीं है उसके दिल में जो भी बात होती है वह कह देता है या उन्हें व्यक्त कर देता है.

अप्रकट भावना

भावना-क्या-है-emotion-meaning-in-hindi

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें खुशियां बांटना बेहद पसंद होता है लेकिन अपना ग़म कभी किसी से शेयर नहीं करते. कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जिनपर न खुशियों का असर होता है और ना ही उन्हें किसी दुःख की कोई चिंता होती है. ऐसे लोगों को हम पत्थर दिल इंसान या महापुरुष कहते हैं. जिस वयक्ति को पत्थर दिल कहा जाता है उनका दिल पत्थर का तो नहीं होता लेकिन उनके जज़्बात पत्थर के जरूर बन चुके होते हैं. ऐसा इंसान या तो अपनी ज़िन्दगी को ढोए जा रहा है या फिर ज़िन्दगी के आनंद में इस क़द्र मग्न हो चूका होता है कि उसपर जीवन के ये सुख-दुःख, अच्छाई-बुराई या नरमी-सख्ती का कोई असर नहीं होता. ऐसे लोग शायद कम ही होंगे, क्योंकि ये संत होते हैं. इन्हें दुनिया के मोह-माया से बिलकुल लगाव नहीं होता, इनकी दुनिया ही अलग होती है.

बॉडी लैंग्वेज से प्रकट होने वाली भावनाएं 

भावनाएं-क्या-है-emotions-meaning-in-hindi

अचानक से माथे पर पसीना आना आपके परेशानियों को प्रकट करता है. जरा-जरा सी बात पर बुरा मानना या रोमांचित होना या निराश हो जाना. कभी-कभी परेशानियां इस कदर हावी हो जाती हैं कि चिंता से चेहरा पीला पड़ने लगता है. किसी बात से आँखों का छलक आना इत्यादि बातें हमारी भावनाओं को प्रकट करते हैं.

भावनाओं के साइड इफेक्ट्स Side Effects of Emotions

भावनाएं-क्या-है-emotion-meaning-in-hindi

साइड इफ़ेक्ट, गुड इफ़ेक्ट का दूसरा पहलु है. भावनाओं के भी साइड इफेक्ट्स होते हैं. भावनाएं अगर माहौल और जगह के अनुसार है तब तो ठीक है लेकिन अगर विपरीत प्रकट हो गयी तो बेवजह परेशानियां खड़ी हो जाती हैं. कई बार गलत मौके पर हमारा अधिक उत्साहित होना या अधिक उदास हो जाना हमारी समस्या का कारण बन जाता है. इसलिए बुद्धिमानी इसी में हैं कि अपनी किसी भी भाव को ज़ाहिर करने से पहले एक बार सोच-विचार लिया जाए. ऐसा करना ज़रूरी इसलिए है क्योंकि हमें पता नहीं होता कि सामने वाले पर हमारे उत्साह का क्या असर होगा. अपने किसी भी भाव को किसी के सामने ज़ाहिर करने से पहले उचित-अनुचित के विषय में सोंच लिया जाए तो बेहतर है.

भावनाओं को कण्ट्रोल कैसे करें How to Control Emotions

control-emotions-in-hindi

हम जानते हैं कि भावनाओं को कण्ट्रोल करना क्यों ज़रूरी है, लेकिन करे कैसे ? यह नामुमकिन बिलकुल भी नहीं है, लेकिन सचमुच मुश्किल है. भावों को काबू में रखना कठिन होता है, फिरभी छोटे-छोटे प्रयास से ये खुद ही हमारे कण्ट्रोल में आने लगते हैं. इन्हें काबू करने का सबसे अच्छा तरीका है इनकी वजह को समझना. भावना की वजह पर ध्यान देने से यह खुद ही नियंत्रण में आने लगती है. किसी बात पर अपनी प्रतिक्रिया देने से पहले  यह याद रखना चाहिए कि इस प्रतिक्रिया का सामने वाले पर क्या असर होगा, यह विचार मन में आते ही भावनाएं नियंत्रण में आने लगते हैं.

Read : Puzzled ज़िन्दगी की Puzzled दुनिया

अति भावुकता घातक हो सकता है

bhavna-kya-hai-emotions-in-hindi

कभी ज़िन्दगी हमारे मुताविक चलती है तो कभी हमें ज़िन्दगी के अनुसार चलना पड़ता है. कई बार ऐसी घटनाओं से हमें गुज़रना पड़ता है जिनका हमें बिलकुल भी अंदेशा नहीं होता और अचानक कुछ ऐसा हमारे साथ गुज़र जाता है जो काफी गहराई तक झकझोर डालता है. भावनाओं का इतना गहरा सदमा लगता है कि हम लाचार और मज़बूर महसूस करने लगते हैं. यह स्थिति धीरे-धीरे इस कद्र हावी होने लगती है कि कई बार तो ज़िन्दगी ही त्यागने का ख्याल मन में आने लगता है. ऐसा लगने लगता है जैसे अब हमारे लिए इस संसार में कुछ भी नहीं बचा और भयंकर निराशा के अन्धकार में डूब कर खुद को ख़त्म कर लेते हैं.

Read : Depression Symptoms in Hindi Treatment and Example

घातक परिस्थति में कैसे संभालें खुद को ?

भावनाएं-क्या-है-emotions-meaning-hindi

घातक परिस्थति में हमारी भावनाएं इस क़द्र हमें कमजोर कर डालतीं हैं कि हमें अच्छा-बुरा समझने का भी होश नहीं रहता. कोई कैसे भी समझा ले, पर मन-मष्तिष्क कुछ भी समझने की स्थिति में नहीं रह जाता है. ऐसी स्थिति में कोई भी निर्णय लेना उचित नहीं होता. ऐसे हालात में अपना ध्यान किसी और तरफ लगाएं. जो हो गया, वो गुजर गया. हमें फोकस उन बातों पर करना चाहिए जो आगे होने वाली है. हमारी ज़िन्दगी का वर्तमान हमारा आज है, और यह वर्तमान हर आने वाले दिन में छुपा होता है. इसलिए भूतकाल में जो बीत चूका, उन्हीं काल में खुद को डुबोये रखना शायद बुद्धिमानी तो बिलकुल भी नहीं है और इस बात से आप भी सहमत जरूर होंगे.

अभी आप पढ़ रहे थे भावना क्या है. भावनाओं को और बेहतर समझने के लिए visit Wikipedia to know what is emotion.

More on Love & Relationship

Advertisements

इस विषय पर हमारी कोशिश कैसी लगी आपको ? अगर पसंद आयी तो अपने दोस्तों से भी इसे share करें. आपको लगता है कि इस विषय पर कुछ और जुड़ना चाहिए तो ज़रूर बताएं… इस पोस्ट के पढ़ने वाले सभी लोगों को इस विषय पर आप भी कुछ कहें. हो सकता है आपके Comment से किसी का भला हो जाए… और हाँ हमारे Facebook पेज को Like करना ना भूलें. आप देखना आपके खूबसूरत Love Life के लिए हम Lucky Charm साबित होंगे. Wish U happy life… 🙂