रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए इन से बचें

रिश्ते में परफेक्शन हो तो जीने का मज़ा ही कुछ और है! जिंदगी आसान और दिलचस्प लगने लगती है. हर किसी की चाहत होती है ‘लाइफ में शकुन हो’ और यह तभी संभव है जब जीवन साथी के साथ मजबूत रिश्ते हों. रिश्ते में मजबूतियां लाने के लिए कई बातें हैं जिनका हमें रखना होगा. इसके लिए दैनिक अभ्यास की आवश्यकता है जो दो दिलों के बीच एक मजबूत और मधुर सम्बन्ध बनाने में सहायता करेंगे. हम अपने रिश्ते को खुशहाल बनाये रखने के लिए ना जाने क्या-क्या करते हैं. लेकिन कुछ बातें हैं जिनका अगर हमेशा ध्यान रखा जाए तो निश्चित रूप से हमारे दाम्पत्य जीवन को सुखमय और खुशहाल जिंदगी बनाने में हमें मदद मिलेंगी.

यदि आप अपने रिश्ते में सचमुच खुशहाली चाहते हैं, तो कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिन्हें करने से आपको बचना होगा.

यह भी पढ़ें : अच्छी पत्नी बनने के आसान टिप्स Relationship tips in Hindi

किसी भी समस्या के लिए एक-दूसरे को दोष देना

जिंदगी और रिश्ते, समस्याओं और जिम्मेदारियों का ही नाम है. जब तक हमारी जिंदगी है, जब तक रिश्ते हैं, ये समस्याएं और जिम्मेदारियां साथ-साथ चलती रहेंगी. कोई भी इंसान नहीं चाहता कि उसके साथ किसी तरह की भी समस्या हो. इसलिए अपनी समस्याओं के लिए एक-दूसरे को दोषी ठहरा कर इन्हें और न बढ़ाएं. अगर आपके साथी से या आप से कोई गलत निर्णय ले लिए गए हैं जिसके वजह से, एक नयी समस्या का सामना करना पड़ रहा हो. तो ऐसे में गंभीरता और बुद्धिमानी से इन्हें सुलझाएं.

 आपस की बातें आपस में ही सुलझाएं

अपने परिवार, रिश्तेदारों से या दोस्तों से आपसी रिश्ते के बारे में भूलकर भी शिकायत न करें. रिश्तों में समय-समय पर टकराव या ज्यादातर तू-तू-मैं-मैं होना सामान्य बात है. ऐसी बातों को आप आपस में ही सुलझाएं, बाहरी लोगों के साथ इस पर चर्चा न करें. अपने निजी मामलों में दूसरों को शामिल करना आम तौर पर नकारात्मक ही होता है और शायद ही इसके कभी कोई अच्छे परिणाम होते हैं. इसलिए आपसी मतभेद पर किसी और से चर्चा करने से बेहतर है आपस में ही बातें करें और मधुरता से इन्हें सुलझाएं.

जिंदगी को बहुत गंभीरता से न लें

जीवन उतार-चढ़ाव से भरा है. खुश रहने के लिए, हमें सब कुछ इतनी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए. जो लोग खुश रहते हैं वे ही अपने जिंदगी का आनंद और रिश्ते का मज़ा ले पाते हैं. रिश्ते में गहराई लाने के लिए, आप दोनों वक्त निकाल कर कहीं पार्क में बैठे. महंगे रेस्टोरेंट्स ना सही, छोटे चाय की दूकान में ही साथ-साथ चाय की चुस्कियां लेते हुए कुछ गुप्तगूं करें. शाम के वक्त घर से बाहर निकलें. रोड साइड ही टहलें. कुछ भी करें, लेकिन खुश रहें. क्योंकि जो लोग खुश रहना जानते हैं उनके रिश्ते भी मजबूत रहते हैं. उनके लिए बड़ी-बड़ी समस्याएं भी आसान लगने लगती है.

रिश्ते में दूसरों की तुलना न करें

हमें, दूसरों की जिंदगी हमेशा अच्छी लगती है. क्योंकि उनके अंदर की समस्याओं से हम अवगत नहीं होते हैं. अगर वास्तव में जिंदगी को खुशहाल और रिश्ते में मधुरता चाहते हैं तो दूसरों से तुलना करना बंद करें. आप या आपके साथी जैसे हैं उन्हें स्वीकार करें, क्योंकि यही आपकी सच्चाई है. भूलकर भी अपने साथी की तुलना दूसरों से न करें. ऐसा करना अपने रिश्ते में असुरक्षा की भावनाओं को जन्म देने जैसा है.

आलोचना करने से बचें

इल्जाम किसी को पसंद नहीं होता. एक-दूसरे पर कोई भी इल्जाम लगाने से पहले हमें ये सोचना होगा कि इससे क्या हासिल होने वाला है. ध्यान रखें इल्जाम या आलोचना रिश्ते में केवल एक दरार पैदा करती है, जो समय के साथ धीरे-धीरे बढ़ते ही जातें हैं. सिर्फ इन्हीं वजहों से जिंदगी के हालात बिगड़ते जाते हैं. इसलिए रिश्ते को खुशहाल बनाए रखने के लिए हमें चाहिए एक-दूसरे की आलोचना न करें. बल्कि इसके बजाय, संवेदनशीलता के साथ परिस्थितियों से निपटने के तरीकों की तलाश करें.

सही समय का चयन

बात चाहे कितने ही गंभीर या सहज हो, अपने साथी के साथ साझा जरूर करें. लेकिन इसके लिए समय का विशेष ध्यान रखें. हम किसी भी परिस्थिति को अपने मनोभाव के अनुसार लेते हैं. आपने देखा होगा रिश्ते में आपसी समझ-बुझ हो तो बड़ी-बड़ी समस्यायें भी आसान लगने लगते हैं. लेकिन जब रिश्ते अच्छे नहीं होते तब छोटी-छोटी बातें भी परेशान कर देती है. इन सबका एक ही वजह है हमारी मनोदशा. इसलिए अपने साथी से किसी बात को शेयर करने के लिए उनके मूड और माहौल को अच्छी तरह परख लें. आप करके देखिये, आपको महसूस होगा कि आपके हर बात का महत्व ठीक आपके अपेक्षा के अनुसार दिए जा रहें हैं. कुछ भी परामर्श लेने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि यह सही वक्त है या नही. अगर आप उनकी मनोदशा नहीं समझ पा रहे हैं तो, सबसे बेहतर तरीका होगा उनसे कुछ देर इधर-उधर की बातें करें. आपको सबकुछ ठीक लग रहा है तो उनसे पूछ लें कि आपको उनके साथ एक गंभीर विषय पर मशवरा करने हैं.

रिश्ते में नकारात्मक तरीके को नकार दें

आपको लगता है कि आपके साथी के द्वारा किये गए काम में सुधार की जरूरत है तो बजाये उनपर झल्लाने के प्यार से कहें. कई बार ऐसा होता है कि हम प्यार से कहते पर कोई इसका असर नहीं होता. प्यार से कई बार कहने के बावजूद भी जब सुधार नहीं होता तो गुस्सा या चिड़चिड़ापन होना स्वाभाविक है. अगर ऐसा आपके साथ भी है तो रुकिए. सोचिये. सोचने की जरूरत है, क्योंकि वो कोई और नहीं आपके जीवन साथी हैं. साथी से रिश्ते अच्छे रहेंगे तभी जिंदगी का मजा आएगा.आप ये सोचिये कि जब भी आपने प्यार से समझाया है, तो क्या कहने का तरीका या शब्दों का चयन सही था या नहीं. क्योंकि तरीका या शब्दों का हमारे मानसिकताओं पर गहरा असर होता है. उन्हें कुछ भी कहने के लिए प्रोत्साहन वाले शब्दों का चयन करे. जैसे “आप ऐसा कर रहे हैं ये ठीक है, लेकिन ऐसा न करके अगर वैसा करें तो कैसा रहेगा?” अब देखिये यहाँ आपने उन्हें सुझाव भी दे दिया और उनसे पूछ भी लिए. क्या हैं कि जब आप किसी को कुछ करने के लिए कहते है तो शायद उसे अच्छा न लगे. लेकिन उसी बात को उनसे सहमत होते हुए, दूसरी बात को मनवाने के लिए उनसे उनका ही विचार आपने मांग लिया. कितना फर्क है दोनों बातों में! है न! अपने रिश्ते में मधुरता लाने के लिए ऐसा करके देखिये.

रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए फिल्मों का सहारा न लें

फिल्मे हमें बहुत प्रेरित करती हैं. क्योंकि फिल्मों में दिखाए गए रिश्ते, कहानियां या कैरेक्टर्स मशालेदार होते हैं. हम फिल्मों की तरह ही अपनी जिंदगी को बनाना चाहते हैं. लेकिन हम भूल जाते हैं कि फ़िल्में सच्चाई नहीं, बल्कि एक रोमांचक ड्रामा है. क्योंकि अगर रोमांचक नहीं होगा तो हमें देखने में भी दिलचस्पी नहीं रह जायेगी. इसलिए ड्रामे को मनोरंजक तक ही सिमित रखने में बुद्धिमानी है. इस ड्रामे को अपने निजी रिश्ते में शामिल न होने दें. इसे रियल लाइफ में लाने की गलती कम-से-कम आप न करें. क्योंकि बुद्धिमान लोगों को पता होता है कि जिंदगी हकीकत है एक काल्पनिक ड्रामा नहीं.

रिश्ते को बेहतर करने में जल्दवाजी ना करें

जब आप एक-दूसरे से मिले होते हैं तो दोनों के अलग-अलग दुनियां, अपने-अपने स्वभाव होते हैं. ऐसे में सबकुछ एक जैसा हो जाए, वो भी कुछ ही दिनों में, यह संभव नहीं है. संयोग की बात है अगर ऐसा हो जाए तो. इसलिए रिश्ते की गरीमा को ध्यान में रखते हुए, काफी गंभीरता से नए सफर की यात्रा का आनंद लेते हुए एक-दूसरे को वक्त दें. क्योंकि आदतों को बदलने में वक्त लगता है.

Advertisements

इस विषय पर हमारी कोशिश कैसी लगी आपको ? अगर पसंद आयी तो अपने दोस्तों से भी इसे share करें. आपको लगता है कि इस विषय पर कुछ और जुड़ना चाहिए तो ज़रूर बताएं… इस पोस्ट के पढ़ने वाले सभी लोगों को इस विषय पर आप भी कुछ कहें. हो सकता है आपके Comment से किसी का भला हो जाए… और हाँ हमारे Facebook पेज को Like करना ना भूलें. आप देखना आपके खूबसूरत Love Life के लिए हम Lucky Charm साबित होंगे. Wish U happy life… 🙂