शीघ्रपतन रोकने के उपाय

कोई बीमारी नहीं है Shighrapatan

शीघ्रपतन क्या होता है ?

शीघ्रपतन जिसे कुछ लोग early discharge या premature ejaculation भी कहते हैं. सीधा-सीधा कहूं तो पेनिस से वीर्य के जल्दी गिरने को शीघ्रपतन कहते हैं. स्त्री-पुरुष के समागम के दौरान सम्भोग से पहले या सम्भोग शुरू करते ही, पुरुष की इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक निकल आये, पुरुष चाहकर भी उसे न रोक सके, यही शीघ्रपतन कहलाता है.

यह भी पढ़ें : सेक्स के जादुई फ़ायदे जानकर दंग रह जायेंगें

शीघ्रपतन की समस्या

दरअसल, शीघ्रपतन की समस्या एक छोटी सी समस्या है, बल्कि यह कोई समस्या ही नहीं है. यह सिर्फ और सिर्फ मन का एक वहम है और कुछ भी नहीं. शीघ्रपतन किसी व्यक्ति की मानसिक एवं शारीरिक स्थिति पर निर्भर करता है. यह समस्या पूरी तरह से साइकोलॉजिकल है, इसके अलावा कुछ भी नहीं.

यह भी पढ़ें : पोर्न वीडियो देखना महिलायें भी पसंद करती हैं

शीघ्रपतन के कुछ साइकोलॉजिकल कारण ये भी हो सकते हैं :

सम्भोग के दौरान घबराहट होना

शीघ्रपतन की समस्या

जब किसी अन्जान पार्टनर के साथ सहवास करते हैं, मन में एक अजीब सा डर बना रहता है. पार्टनर के साथ अच्छी तरह खुले नहीं होने के वजह से मन में एक घबराहट सी होती है. एक अन्जान डर बना रहता है, इस वजह से भी शीघ्रपतन होता हैं.

यह भी पढ़ें : Designer Vagina का दुनियां भर में बढ़ता Trend

शीघ्रपतन का कारण आत्म विश्वास में कमी

कई बार ऐसा भी सुना गया है कि किसी व्यक्ति के एक या दो बार के जल्दी स्खलन होने को वह एक बिमारी समझ लेता है. जबकि बेशक यह कोई बिमारी नहीं है, लेकिन व्यक्ति जानकारी के अभाव में खुद ही तय कर लेता है कि वह शीघ्रपतन की बिमारी से ग्रसित हो चुका है. इस वजह से सहवास के दौरान उसे, खुद पर भरोसा नहीं रह जाता. चूँकी वह मानसिक रूप से यह मान बैठा है कि वह जल्दी स्खलित हो जाएगा, उसे इस बात पर बिलकुल विश्वास नहीं रह जाता है कि वह अपने पार्टनर को संतुष्ट कर सकेगा. सहवास के दौरान, उसे लगता है कि वह कभी भी स्खलित हो सकता है और उसका ऐसा मानना ही इस मानसिक रोग का आधार है.

यह भी पढ़ें : Happy Marriage के लिए एक ही महिला से 4 शादियां

सेक्स की जानकारी का अभाव

आज भी ऐसे बहुत से लोग हैं, जिन्हे सेक्स की जानकारी की सख्त जरूरत है. इस अज्ञानता की वजह से कई लोगों की जिंदगी तबाह हो चुकी है, और यह अज्ञानता भी शीघ्रपतन का एक और बड़ा कारण है.

यह भी पढ़ें : सेक्स एजुकेशन क्यों जरूरी है? किस उम्र में क्या यौन शिक्षा दें

शीघ्रपतन का कारण सम्भोग का अनुभव ना होना

शीघ्रपतन क्या होता है

सम्भोग के अनुभव में कमी होना भी इस तरह की परेशानियों की वजह होती हैं. हम जिंदगी में कुछ भी नया करते हैं, उसके लिए एक अजीब उत्तेजना होती है, और जरूरत से अधिक उत्तेजित होने की वजह से हम पहले ही स्खलित हो जाते हैं और खुद को शीघ्रपतन का शिकार मान बैठते हैं.

यह भी पढ़ें : Sex Addiction – 8 बातों से पहचानें सेक्स की लत

पार्टनर को संतुष्ट करने का तनाव

शीघ्रपतन की मानसिकता के शिकार लोगों में हमेशा यह तनाव रहता है. सम्भोग का ख्याल आते ही वह इस सोच में डूब जाता है कि ‘पार्टनर को संतुष्ट कैसे करे’. उसका यही तनाव उसके वहम का कारण बनता है. मन में यही ख्याल लाना कि ‘कहीं जल्दी स्खलन न हो जाए’. उसकी इसी बात की चिंता और तनाव की वजह से ही वह जल्दी स्खलित हो जाता है.

यह भी पढ़ें : 14 Sexual Orientations जिन्हें शायद आप नहीं जानते होंगे

रोग और शीघ्रपतन

नशा और शीघ्रपतन

शरीर का अस्वस्थ होना, जैसे – कमजोरी, डायबिटीज़, हाई ब्लड प्रेशर, हॉर्मोन्स में गड़बड़ी, थाइरोइड या गैस की समस्या इत्यादि कारणों से भी व्यक्ति पूरी तरह से सम्भोग नहीं कर पाता है और जल्दी स्खलित हो जाता है.

यह भी पढ़ें : गर्भपात कैसे होता है? जानें गर्भावस्था और गर्भपात की बातें

शीघ्रपतन से बचने के लिए सम्भोग का तरीका

चूँकी हम सभी लोग इस बात से अच्छी तरह से अवगत हैं कि हम में से अधिक लोगों को सेक्स का उचित ज्ञान नहीं है. इस वजह से ऐसे लोगों को सम्भोग करने का प्रॉपर तरीका या सेक्स के वक्त टाइम मैनेजमेंट नहीं कर पाते हैं, जैसे – फोरप्ले की विधि या फिर अधिक देर तक ओरल सेक्स करना या डर्टी टॉक्स में अधिक उत्तेजित हो जाना जैसे कारणों से भी शीघ्रपतन हो सकता है.

यह भी पढ़ें  : Dirty Talks के Sexual and Relationship फायदे

नशा और शीघ्रपतन

पार्टनर के साथ रोमांटिक खेल में झूमने की वजह मिल जाए तो बात ही क्या. शारीरिक रिश्तों में गर्माहट लाने के लिए अक्सर लोग नशा कर लेते हैं, और यही पल भर का मज़ा एक सज़ा में बदल जाता है. नशा करने की वजह से शरीर की नसे कमजोर होने लगती हैं, जिसकी वजह से शीघ्रपतन की समस्या उत्पन्न हो जाती है.

यह भी पढ़ें : शादी से पहले शारीरिक संबंध की बात जब पत्नी ने पति से बताया

शीघ्रपतन का दुष्प्रभाव

शीघ्रपतन का दुष्प्रभाव

शीघ्रपतन, पुरुषों की एक ऐसी समस्या है, जिसकी वजह से जिंदगी नीरस बन जाती है. जिस किसी के साथ यह समस्या होती है, वह अपना आत्म विश्वास खो बैठता है. घर में सुख-शांति लगभग ख़त्म हो जाती है, क्योंकि घर की रौनक बच्चों के अलावा महिलाओं से होती हैं. किसी महिला का पति जब इस बिमारी से ग्रसित होता है, तब इस परिस्थिति में वह अपनी पत्नी को यौन सुख नहीं दे पाता है, और चाहे पुरुष हो या महिला, जब तक यौन सुख पूरी तरह से न मिले, मन बेचैन रहने लगता है. मन बेचैन, तो समझिये जिंदगी बेचैन. माने यह छोटी सी समस्या इतनी बड़ी बन जाती है कि कई बार तो लोगों के घर भी उजड़ जाते हैं.

यह भी पढ़ें : Husband-wife में friendship होने चाहिए या नहीं

शीघ्रपतन के लक्षण :

सेक्स के प्रति अरुचि होना

अपने पार्टनर को संतुष्ट नहीं कर पाने का अनुभव और इसके तनाव से सेक्स के प्रति मन में एक डर पैदा हो जाता है. ऐसे व्यक्ति को आत्म ग्लानि महसूस होने लगती है और इसी वजह से शारीरिक सम्बन्ध से वह कतराने लगता है.

यह भी पढ़ें : सुहागरात के टिप्स, ऐसे यादगार बनाए अपनी Pahli Suhagrat

शीघ्रपतन का डर

शीघ्रपतन का डर

जिस व्यक्ति को शारीरिक सम्बन्ध बनाने के ख्याल मात्र से ही शीघ्रपतन का डर सताने लगता है. समझिये यह मानसिक बिमारी पूरी तरह से उस इंसान पर हावी हो चुकी है. ऐसा व्यक्ति भले ही पूरी तरह से स्वस्थ हो, लेकिन मानसिक वहम की वजह से वह इस अन्जान रोग से ग्रसित रहता है.

यह भी पढ़ें : Love Marriage के इन फायदों को जानकर आपका नजरिया बदल जाएगा

यह भी पढ़ें : वर्जिनिटी टेस्ट का सच Virginity test at home

शीघ्रपतन है या नहीं ?

कुछ लोगों में शीघ्रपतन जैसी कोई बात नहीं होती है, लेकिन उचित जानकारी के अभाव में वे खुद को इस रोग का मरीज़ मान बैठते हैं. सबसे पहले तो यह जानना चाहिए कि सम्भोग के किस अवधि को शीघ्रपतन कहें और किस अवधि को नहीं. डॉक्टरों के अनुसार सम्भोग क्रिया, यानी महिला के वेजाइना में पुरुष का पेनिस के अंदर-बाहर होने की अवधि एक मिनट से कम है, तब तो आप कह सकते हैं कि यह शीघ्रपतन है, लेकिन जब यही अवधि एक मिनट से अधिक हो तो इसे सामान्य ही समझना चाहिए.

यह भी पढ़ें : अच्छी पत्नी बनने के आसान टिप्स Relationship tips in Hindi

Premature ejaculation की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लीक करें

Advertisements

Leave a Reply