THREESOME RELATIONSHIP IN HINDI

THREESOME STORY

Threesome relations पर एक फिल्म आयी थी. एक फ्रेंच फिल्म LOVE 2015 में.  फिल्म क़े सभी सेक्सुअल सीन सच थे. सही में फिल्माए गए थे. यह फिल्म एक अमेरिकन सिनेमा स्कूल के छात्र मर्फी और उसकी फ्रांसीसी प्रेमिका इलेक्ट्रा के जीवन के चारों ओर घूमती है. एक दिन, मर्फी और इलेक्ट्रा एक ओमी नाम की महिला से मिलते हैं. अपने सेक्सुअल लाइफ में कुछ excitement लाने के लिए दोनों ओमी के साथ threesome करते हैं. जो तीनों क़े लिए एक आनंददायक अनुभव रहा. लेकिन बाद में एक दिन  मर्फी, without threesome, ओमी के साथ इलेक्ट्ररा की पीठ के पीछे सेक्स करता है. जिसके परिणामस्वरूप ओमी प्रेग्नेंट हो जाती है. इस अनचाहे प्रेगनेंसी ने मर्फी और इलेक्ट्रा के बीच के संबंध को बहुत दुखद मोड़ पर समाप्त कर देता है. फिर मर्फी को मजबूरन ओमी से शादी करना पड़ता है.

LOVE 2

फिर एक दिन मर्फी जो अब पेरिस के एक छोटे से फ्लैट में ओमी और अपने 18 महीने बेटे के साथ रह रहा है, के पास एक phone call आता है. Phone call इलेक्ट्रा की माँ की होती है. जो बताती है कि उसे इलेक्ट्रा की एक सहेली मिली थी. जिसने उसे बताया कि इलेक्ट्रा ने आत्महत्या कर लिया है.

यह भी पढ़ें : वर्जिनिटी टेस्ट का सच Virginity test at home

तो यह threesome कहानी महज एक फिल्म की है. जब भी इस फिल्म की कहानी मुझे याद आती है. सच पूछिए मैं काँप जाता हूँ. आजकल threesome हमारे देश में भी काफी प्रचलित होने लगा है. खासकर शहरों में. क्या है कि हमारे यहाँ शादियों को जीवन भर निभाए जाते हैं. ये बात और है कि कोई रो के या कोई हंस के. जो लोग रो के निभाते हैं. वे खुद को मजबूर और असहाय महसूस करते हैं कि भैया जब घंटी बंध गयी तो निकाल नहीं सकते. सामाजिक मान-मर्यादा को maintain रखने के लिए, ये कुर्बानी देने होते हैं. अगर married life से बच्चे हैं. तो अब खुद के सभी desires और fantasy को मुंगेरी लाल के सपनो तक ही सिमित रखने पर मजबूर रहते हैं. करे भी क्या!

यह भी पढ़ें : Husband-wife में friendship होने चाहिए या नहीं

शादी के उम्र भर निभाने के रिवाज में जो लोग खुश रहते हैं. वे धार्मिक स्वाभाव के होते हैं. जिनके लिए इच्छा होने पर भी, दूसरे किसी महिला को देखना पाप होता है. ये गलत है भी कि कोई किसी महिला को अश्लील नजरों से देखे. वैसे कुछ लोगों क़े logic हैं कि ‘खूबसूरती देखने के लिए है.’ कोई कहता हैं ‘किसी महिला को देखने से, अगर उसका आत्मसम्मान बाधित नहीं होता हैं तो देखने में कोई बुराई नहीं.’

यह भी पढ़ें : Gender equality लैंगिक समानता जितनी अधिक उतना ही सेक्स

ये बाते हैं जिन्हे हम आये दिन, देखते और सुनते हैं अपने व्यबहारिक जिंदगी में. इसमें क्या गलत और क्या सही इसका निर्णय लेना मेरे लिए संभव नहीं. क्योकि ये हमारे आधुनिक समाज का एक धीरे-धीरे हिस्सा बनता जा रहा हैं. सोचने पर मजबूर हो जाता हूँ कि threesome जैसे ख़यालात लोगों क़े मन में आते भी हैं तो कैसे!

क्या threesome पोर्न फिल्मों का असर हैं?

क्या ये threesome वाले लोग अपने life partner से प्यार नहीं करते? लोगों को सेक्स क़े लिए सिर्फ एक खूबसूरत शरीर का मिलना ही काफी होता हैं? क्या कपड़ों क़े तरह हमारे पार्टनर का शरीर भी पुराने होने लगते हैं? हमारा मन उस शरीर से ऊब चूका होता हैं?

यह भी पढ़ें : भारतीय सेक्स बाजार में इत्ता सेक्सी है मेरा इंडिया!

Threesome सही है या गलत ?

Threesome जैसे रिलेशन्स पर ऐसे कई सवाल मेरे मन में आते रहते हैं. सवालों क़े जवाब ढूंढता हूँ तो सभी सहीं लगते हैं. वो भी सही लगते हैं जो threesome करते हैं. वो भी सही लगते हैं जो threesome से दूर हैं. अपनी-अपनी सोंच. अपनी-अपनी सभ्यता. अलग-अलग मानसिकताओं क़े अपने-अपने विचार हैं.

Threesome पर अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.

Advertisements

इस विषय पर हमारी कोशिश कैसी लगी आपको ? अगर पसंद आयी तो अपने दोस्तों से भी इसे share करें. आपको लगता है कि इस विषय पर कुछ और जुड़ना चाहिए तो ज़रूर बताएं… इस पोस्ट के पढ़ने वाले सभी लोगों को इस विषय पर आप भी कुछ कहें. हो सकता है आपके Comment से किसी का भला हो जाए… और हाँ हमारे Facebook पेज को Like करना ना भूलें. आप देखना आपके खूबसूरत Love Life के लिए हम Lucky Charm साबित होंगे. Wish U happy life… 🙂